लॉकडाउन के दौरान सूरत के 11 वर्षीय शौर्य सिंघवी ने ‘कीप द बॉल रोलिंग’ पुस्तक लिखी

विमोचन के अवसर पर सभी ने इस बाल लेखक की प्रतिभा की प्रशंसा की

सूरत। लॉकडाउन के दौरान कईयों को अपनी छिपी प्रतिभा को बाहर लाने का मौका मिला, जबकि सूरत में एक 11 साल के बच्चे ने भी अपने अंदर छिपे लेखक का दर्शन करवाया है। बच्चे का नाम शौर्य सिंघवी है। शौर्य सूरत के फाउंटेनहेड स्कूल का छात्र है और उसने एक सफल नेतृत्व के लिए किस तरह के व्यक्ति होने चाहिए, इसके बारे में ‘कीप द बॉल रोलिंग’ नामक पुस्तक लिखी है। पुस्तक का भव्य विमोचन किया गया।

विमोचन कार्यक्रम में हर कोई इस बाल लेखक के लेखन कौशल और प्रतिभा पर चकित था, सभी ने उसकी शौर्य की प्रतिभा की प्रशंसा की। एक लेखक के रूप में शौर्य सिंघवी ने अपने विचारों और एकाग्रता के साथ एक नेता बनाने के गुणों का वर्णन किया है। आप सोचते हैं, यह कुछ भी बड़ा नहीं है। लेकिन जब बच्चा 11 साल का होता है, और उसने नेतृत्व पर एक किताब लिखी है, तो यह वास्तव में आश्चर्यजनक है।

यह पुस्तक एक अनोखी है और जो भी नेता बनना चाहता है, उसे पढऩा चाहिए। यहां तक कि अगर आप एक नेता बनने की योजना नहीं बनाते हैं तो पुस्तक आपको सफलता की जानकारी देती है। कहानियों के माध्यम से बुनाई करके लेखक आपको नेतृत्व की दुनिया में एक यादगार यात्रा पर ले जाता है-जिनमें से कुछ वास्तविक और प्रेरक हैं।

11-year old Surti boy Shaurrya Singhvi launched his first book, "Keep the Ball Rolling"

इस अवसर पर वेंचुर कैटेलिस्ट के सह-संस्थापक डॉ. अपूर्वा रंजन शर्मा ने कहा कि ‘कीप द बॉल रोलिंग’ उन सभी के लिए पढऩे के लिए एक किताब है जो नेता बनने की ख्वाहिश रखते हैं। मुझे पसंद है जिस तरह से प्रत्येक अध्याय आपको अगले विषय और अध्याय पर लाने के लिए अपना हाथ रखता है। इसके अलावा मुझे पसंद है कि कैसे कहानियां कपड़ा कपड़े में मिलती हैं और एक नेता होने के गुणों की सराहना करते हैं। लगभग पंचतंत्र व्याख्यान के जैसे कहानी है। क्या मैं इसे नेतृत्व का पंचतंत्र कहने की हिम्मत करता हूँ? मेरा जवाब एक शानदार हाँ है। ऐसे युवा के लिए 11 वर्षीय शौर्य सिंघवी ने अपने लेखन में बहुत अंतर्दृष्टि दी है। जिस तरह से उन्होंने अपने अध्ययन को साझा किया है वह प्रेरणादायक है। यह पुस्तक उम्र की कोई सीमा नहीं है वाक्य का उदाहरण देती है। अपनी उम्र या स्थिति के बावजूद, आगे बढ़ें और इसे पढ़ें। नेतृत्व की दुनिया में सफलतापूर्वक महान बनाने के इच्छुक किसी के लिए एक अनूठा पढऩा।

सूरत साइकिल मेयर सुनील जैन ने इस अवसर पर कहा कि जब प्रतिभा को कठोरता और अनुशासन से सम्मानित किया जाता है और जब इसे अवसरों के साथ प्रस्तुत किया जाता है तो यह असाधारण परिणाम की ओर ले जाता है। प्रतिभाशाली ग्यारह वर्षीय लडक़ा  शौर्य इसका एक उत्कृष्ट उदाहरण है और उसकी पहली पुस्तक-कीप घी बॉल रोलिंग में परिणाम दिखाई देते हैं।

शौर्य के स्कूल के प्रिंसिपल वरदान काबरा ने भी कहा कि मैं इस किताब से गुजऱा हूँ और मैं वास्तव में शौर्य के प्रयासों की सराहना करता हूँ। नेतृत्व के विभिन्न गुणों का वर्णन करने के लिए कहानियों के मिश्रण के अपने नए दृष्टिकोण के साथ उन्होंने अपनी उम्र के लिए बहुत कठिन विषय का सामना किया है। उन्होंने अपने विचारों को व्यक्त करने के लिए भाषा का संक्षिप्त और प्रभावी रूप से उपयोग किया है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,027FansLike
3,442FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles