प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने नवविकसित गांधीनगर रेलवे स्टेशन, साइंस सिटी फेज-२ के तीन प्रकल्पों का नई दिल्ली से किया वर्चुअल लोकार्पण

  • गांधीनगर-वाराणसी सुपरफास्ट ट्रेन और गांधीनगर-वरेठा मेमु ट्रेन को दिखाई हरी झंडी
  • २१वीं सदी का भारत नई आकांक्षा और नवयुवा अपेक्षाओं का भारतः प्रधानमंत्री
  • ‘नये भारत की पहचान के प्रतीक हैं ये विकास कार्य’
  • गुजरात के विकास में मील का पत्थर साबित होंगे आज लोकार्पित हुए विकास कार्यः केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह
  • गुजरात के विकास के मानक बेंचमार्क की गति को और तीव्र बनाने को प्रतिबद्ध है गुजरात सरकारः मुख्यमंत्री

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात की राजधानी गांधीनगर में अद्यतन नवीनीकृत गांधीनगर कैपिटल रेलवे स्टेशन, ३१८ रुम की सुविधा वाले आधुनिक पांच सितारा होटल, अहमदाबाद स्थित साइंस सिटी में २६४ करोड़ रुपए के खर्च से तैयार एक्वाटिक गैलरी, १२७ करोड़ रुपए की लागत से निर्मित रोबोटिक गैलरी और १४ करोड़ रुपए के खर्च से बने नेचर पार्क सहित तीन नवीन प्रकल्पों तथा गांधीनगर-वाराणसी नई साप्ताहिक सुपरफास्ट ट्रेन, सुरेन्द्रनगर-पीपावाल २६६ किमी लंबी रेल लाइन के विद्युतीकरण और मेहसाणा-वरेठा विद्युतीकृत ब्रॉडगेज रेल खंड का शुक्रवार को वर्चुअल लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि २१वीं सदी का भारत नई आकांक्षा और नवयुवा अपेक्षाओं का भारत है। आज के विकास कार्यों का लोकार्पण नए भारत की पहचान के प्रतीक बनेंगे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश का लक्ष्य केवल कंक्रीट की संरचनाएं खड़ी करना ही नही है, बल्कि नए तौर-तरीकों पर जोर देना है। पहले अर्बन डेवलपमेंट (शहरी विकास) के नाम पर जो कुछ हुआ, उसे छोड़कर हम काफी आगे बढ़ चुके हैं। अहमदाबाद में साबरमती के तट पर ‘लेक डेवलपमेंट फ्रंट’, सी-प्लेन या ओपन जिम्नेशियम या कांकरिया में नए-नए आकर्षणों के संबंध में क्या किसी अमदावादी ने सोचा होगा? आज अहमदाबाद और गुजरात के लोगों के लिए ये नए आकर्षण सिर्फ साकार नहीं हुए हैं बल्कि इसने पूरे ईकोसिस्टम को बदल दिया है।

इस अवसर पर अहमदाबाद स्थित साइंस सिटी में तैयार तीन नए प्रकल्प बच्चों को ‘रिक्रिएशन’ के साथ ‘क्रिएटिव’ बनाएंगे और बच्चों एवं युवाओं में विज्ञान को लेकर रुचि पैदा करने में सहायक बनेंगे। यहां के रोबोपार्क और नेचर पार्क बच्चों के आकर्षण का केंद्र बनेंगे।

देश की पहली और एशिया की पांचवे नंबर की एक्वाटिक गैलरी बच्चों को समुद्री जैव सृष्टि को देखने का अद्भुत अनुभव देगी। रोबोटिक गैलरी में संवाद करते रोबोट, रोबो कैफे में भोजन परोसते रोबोट के आकर्षणों के साथ रोबोट की मेडिसीन, कृषि, अंतरिक्ष विज्ञान और रक्षा क्षेत्र में उपयोगिता के संबंध में बच्चों और युवाओं को नया अनुभव देगी।

श्री मोदी ने सोशल मीडिया पर उनके द्वारा पोस्ट की गई रोबोटिक गैलरी की तस्वीरों को मिली सुखद प्रतिक्रिया का उल्लेख करते हुए कहा कि इस व्यवस्था का हमारे देश और गुजरात में निर्माण होने का गौरव सभी के साथ साझा किया। उन्होंने आशा व्यक्त की कि स्कूल-कॉलेज के बच्चों सहित विज्ञान में रुचि रखने वाले बच्चे साइंस सिटी के आकर्षणों का अधिकतम उपयोग करेंगे।

रेलवे प्रकल्पों के लोकार्पण के बाद श्री मोदी ने कहा कि रेलवे आधुनिक और सशक्त भारत का पर्याय है। गांधीनगर-वाराणसी सुपरफास्ट ट्रेन के माध्यम से आज सोमनाथ की धरती विश्वनाथ की भूमि के साथ जुड़ रही है। रेलवे में नए रिफॉर्म यानी बदलाव की जरूरत के संबंध में उन्होंने कहा कि हमने भारतीय रेलवे को सर्विस के तौर पर नहीं बल्कि एसेट के रूप में विकसित करना शुरू किया है। इसके कारण रेलवे की साख बदल रही है। अब रेलवे और भी सुविधायुक्त, स्वच्छ, गतिशील एवं सुरक्षित बनी है। आगामी दिनों में डेडिकेटेड फ्रेट कोरिडोर के चलते रेलवे की गति और बढ़ेगी। वंदे भारत और तेजस जैसी तेज रफ्तार ट्रेनें तो दौड़ने भी लगी हैं जो यात्रियों को नया अनुभव दे रही हैं। केवड़िया जाने वाली रेल के नए नजराने विस्टा डोम कोच के जरिए लोगों ने यात्रा के रोमांच का अनुभव किया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अब ट्रेन, ट्रैक और प्लेटफॉर्म पहले से ज्यादा साफ एवं स्वच्छ हैं। रेलवे में लगे दो लाख से अधिक बायो टॉयलेट की व्यवस्था के कारण स्वच्छता बढ़ी है। आगामी दिनों में देश के मुख्य रेलवे स्टेशनों के आधुनिकीकरण, २ और ३ टीयर स्टेशनों में वाईफाई की सुविधा और मानवरहित फाटकों को खत्म करने सहित अनेक नए आयामों ने भारतीय रेलवे को विश्व की आधुनिक रेलवे में स्थाना दिलाया है।

उन्होंने कहा कि रेलवे देश के कोने-कोने तक पहुंचे उसके लिए उसका होरिजेंटल एक्सपेंशन, कैपेसिटी बिल्डिंग, रिसोर्सिंग तथा वर्टिकल एक्सपेंशन करना आवश्यक है। इसके लिए पीपीपी के आधार पर उपलब्ध जगह का अधिकतम उपयोग कर रेलवे का विकास करना जरूरी है। अब तो गांधीनगर कैपिटल रेलवे स्टेशन के साथ उसके ऊपर एक पांच सितारा होटल भी शुरू हो चुकी है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि गांधीनगर कैपिटल रेलवे स्टेशन, महात्मा मंदिर, दांडी कुटीर, नई फाइव स्टार होटल तथा अहमदाबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से केवल २० किलोमीटर की दूरी पर स्थित इन सभी आकर्षणों के कारण यहां देश-विदेश के निवेशक और उद्योगपति बड़ी संख्या में आएंगे, इससे महात्मा मंदिर की महत्ता भी बढ़ेगी।

उन्होंने कहा कि अब देश के उत्तर-पूर्व क्षेत्र में भी रेलवे शुरू हो गई है। आगामी कुछ दिनों में कन्याकुमारी से श्रीनगर को जोड़ने वाली रेल शुरू हो जाएगी। वडनगर-मोढेरा और पाटण को जोड़ने वाले हेरिटेज सर्किट में शामिल वडनगर रेलवे स्टेशन के पुनर्निमाण पर उन्होंने खुशी व्यक्त की और कहा कि सुरेन्द्रनगर-पीपावाव के विद्युतीकरण के कारण उत्तर भारत को जोड़ने वाली डबलडेकर कंटेनर ट्रेन के कारण व्यापार, रोजगार और स्वरोजगार के अवसर बढ़ेंगे।

इस अवसर पर श्री नरेन्द्र मोदी ने परिवहन के सभी साधनों को मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी से जोड़ने की उम्मीद जताते हुए कहा कि इससे कम समय और खर्च पर बेहतर सुविधा प्राप्त होने के साथ आत्मनिर्भर भारत की दिशा में हम ज्यादा मजबूती से आगे बढ़ सकेंगे।

केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री एवं गांधीनगर के सांसद श्री अमित शाह ने ३५ साल बाद राज्य की राजधानी गांधीनगर रेलवे स्टेशन के इस संपूर्ण कायाकल्प को पूरे गुजरात और गांधीनगर संसदीय क्षेत्र के नागरिकों के लिए बेहद खुशी का अवसर करार दिया।

उन्होंने कहा कि पहले जब इस रेलवे स्टेशन का विचार आया और स्पेशल पर्पज व्हीकल बना और कंस्ट्रक्शन का काम शुरू हुआ, तब अनेक लोगों को यह केवल इंजीनियरिंग कौशल लगता था, लेकिन आज इस अद्भुत परियोजना ने सफलतापूर्वक मूर्त स्वरूप ले लिया है और प्रधानमंत्री के करकमलों से लोकार्पण हो रहा है।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे, तब उनका आग्रह और लक्ष्य यह रहता था कि गुजरात के सभी विकास कार्य विश्वस्तरीय हों और उसी के अनुसार आयोजन भी किया जाता था। उनके इस दृष्टिकोण के कारण ही आज गुजरात की अनेक विकास परियोजनाएं विश्वस्तरीय एवं अनुकरणीय हैं। उन्होंने कहा कि गांधीनगर का यह नया रेलवे स्टेशन और दो नई ट्रेनों का प्रारंभ नागरिकों के लिए कई मायनों में उपयोगी साबित होगा, जबकि नवनिर्मित पांच सितारा होटल इकोनॉमी और टूरिज्म को विकसित करने में महत्वपूर्ण साबित होगा।

श्री शाह ने कहा कि मेहसाणा-वरेठा के बीच रेलवे गेज परिवर्तन और सुरेन्द्रनगर-पीपावाव की २६६ किमी लंबी रेल लाइन का विद्युतीकरण रेलवे के निर्धारित विद्युतीकरण और गेज परिवर्तन के कार्यों की दिशा में अहम साबित होगा। उन्होंने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद रेलवे ने गुजरात में अनेक नई योजनाएं पूरी की हैं। दुनिया की सबसे ऊंची सरदार साहेब की प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के निर्माण के बाद देश के आठ महत्वपूर्ण स्थानों के साथ जोड़ने का काम भी रेलवे ने हाल ही में पूरा किया है। आज गांधीनगर-वाराणसी सुपरफास्ट ट्रेन के माध्यम से गांधीनगर को बाबा विश्वनाथ की नगरी के साथ जोड़ने का काम भी पूरा हुआ है। गांधीनगर और वरेठा के बीच शुरू होने वाली मेमू सर्विस अनेक यात्रियों के लिए उपयोगी सिद्ध होगी।

अहमदाबाद के साइंस सिटी में लोकार्पित होने जा रही दो गैलरी और एक नेचर पार्क का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि नवनिर्मित एक्वाटिक गैलरी और रोबोटिक्स गैलरी विज्ञान में दिलचस्पी रखने वाले छात्रों के लिए महत्वपूर्ण साबित होगी।

केद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने प्रधानमंत्री के करकमलों से लोकार्पित होने जा रहे सभी प्रकल्पों को पूरे गुजरात के विकास के लिए मील का पत्थर करार दिया और गुजरात की जनता की ओर से उनका आभार व्यक्त किया।

रेल मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि रेलवे में बड़ा बदलाव कर एक नई पहचान स्थापित करने का प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का दृढ़ संकल्प है। गांधीनगर रेलवे स्टेशन का पुनर्विकास और रेलवे स्टेशन के ऊपर ही पांच सितारा होटल का निर्माण उनके संकल्प को साकार करता है।

किसी भी राष्ट्र के विकास में रेल के विकास के अहम योगदान को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के सात वर्ष के कार्यकाल के दौरान भारतीय रेल में अनेक बदलाव हुए हैं।

श्री वैष्णव ने कहा कि रेल क्षेत्र में कई ढांचागत सुविधाओं की स्थापना, वंदे भारत और तेजस जैसी अत्याधुनिक सुविधायुक्त ट्रेन की शुरुआत, ग्रीन रेलवे तथा रेल लाइनों का विद्युतीकरण जैसे विभिन्न कार्यों श्री मोदी के कार्यकाल के दौरान शुरू किए गए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में भारतीय रेल ने ऑक्सीजन एक्सप्रेस चलाकर जरूरतमंदों तक प्राण वायु यानी ऑक्सीजन पहुंचाई है। यह कहने में कोई अतिशयोक्ति नहीं है कि अभी रेलवे का स्वर्ण युग चल रहा है।

मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी ने कहा कि गुजरात की राजधानी गांधीनगर से भगवान शिव की नगरी काशी तक साप्ताहिक सुपरफास्ट ट्रेन, औद्योगिक क्षेत्र पीपावाव में स्थित उद्योगों की परिवहन सुविधा के लिए सुरेन्द्रनगर-पीपावाव के बीच २६६ किमी लंबी रेल लाइन के विद्युतीकरण का लोकार्पण तथा प्रधानमंत्री के पैतृक शहर वडनगर से जुड़ी मेहसाणा-वरेठा विद्युतीकृत ब्रॉडगेज रेलवे का आज लोकार्पण कर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात को सौगात दी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गांधीनगर बरसों से रेल सेवाओं से वंचित राजधानी थी, लेकिन प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने नए प्रोजेक्ट और ट्रेन की भेंट गुजरात को देकर सर्वांगीण विकास के नए द्वार खोले हैं।

उन्होंने विश्वास जताया कि इन रेल परियोजनाओं से कनेक्टिविटी और सुविधाओं में वृद्धि होगी। यही नहीं, महात्मा मंदिर जैसा विशाल कन्वेंशन सेंटर, अति आधुनिक सुविधायुक्त रेलवे स्टेशन और फाइव स्टार होटल से देश-विदेश से गांधीनगर आने वाले पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र भी बनेगा।

उन्होंने कहा कि विश्वस्तरीय महत्वपूर्ण समिट तथा कॉन्फ्रेंस के लिए वर्ल्ड क्लास इंफ्रास्ट्रक्चर की सुविधा भी महात्मा मंदिर जैसे विशाल कन्वेंशन सेंटर और एग्जीबिशन सेंटर के माध्यम से मिलेगी।

श्री रूपाणी ने कहा कि देश-विदेश से आने वाले निवेशकों, उद्योग-व्यापार जगत के प्रतिनिधियों को ठहरने के लिए कन्वेंशन सेंटर के निकट ही विश्वस्तरीय सुविधा मुहैया कराने के उद्देश्य से ३१८ रूम की सुविधा वाली आधुनिक फाइव स्टार होटल का निर्माण हुआ है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी ने अपने मुख्यमंत्रित्व काल के दौरान ही गुजरात के बच्चों, बुजुर्गों और युवाओं की विज्ञान और तकनीक में रुचि बढ़ाने के लिए साइंस सिटी का विकास किया था।

उन्होंने कहा कि सभी को मनोरंजन के साथ ज्ञान देने वाली साइंस सिटी में पहले से आई मेक्स थियेटर, एस्ट्रोनॉमी गैलरी-स्पेस गैलरी कार्यरत है और अब आज तीन नए प्रकल्पों का लोकार्पण हुआ है। साइंस सिटी में बने भारत के सबसे बड़े मछली घर यानी एक्वेरियम में देश-विदेश की ११ हजार मछलियां देखने को मिलेगी। यहां लगे कियोस्क के जरिए मछलियों के संबंध में विस्तृत जानकारी भी सुलभ होगी।

उन्होंने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात में विकास का मानक बेंचमार्क सेट किया है। इस विकास मानक को बरकरार रखते हुए विकास की गति को और तीव्र बनाने के लिए गुजरात सरकार प्रतिबद्ध है।

श्री रूपाणी ने कहा कि आज गुजरात के विकास की चर्चा और तुलना देश के अन्य राज्यों ही नहीं बल्कि दुनिया के विकसित देशों के साथ हो रही है। गुजरात देश का ग्रोथ इंजन है, मैन्युफैक्चरिंग हब है और सबसे ज्यादा प्रत्यक्ष विदेश निवेश (एफडीआई) प्राप्त करने वाला राज्य बना  है। इसके मूल में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा बतौर गुजरात के मुख्यमंत्री रखी गई विकास की नींव है।

उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि गुजरात की विकास यात्रा को उत्तम से सर्वोत्तम तक ले जाने के लिए प्रधानमंत्री की प्रेरणा और मार्गदर्शन से साकार हो रहे ये प्रोजेक्ट मील का पत्थर साबित होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा  कि पिछले डेढ़ वर्ष के दौरान कोरोना के संकट काल में दुनिया के कई देशों में आर्थिक गतिविधियां ठप पड़ गई थीं, तब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में १२५ करोड़ भारतीयों ने ‘न झुकना है, न रुकना है’ मंत्र के साथ विकास की गति, आर्थिक गतिविधियां और कारोबार को रुकने नहीं दिया। प्रधानमंत्री के सूत्र ‘कड़ाई भी, दवाई भी’ का अनुसरण करते हुए राज्य सरकार ने जनता को कई विकास प्रकल्पों की भेंट दी है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का यह विजन रहा है कि गुजरात में विश्वस्तरीय तमाम सुविधाएं हो। अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, सरदार पटेल स्पोर्ट्स संकुल, नरेन्द्र मोदी स्टेडियम, मेट्रो ट्रेन, गिफ्ट सिटी, महात्मा मंदिर और नवविकसित रेलवे स्टेशन एवं साइंस सिटी फेज-२ के प्रकल्पों से गुजरात की वैश्विक पहचान और भी मजबूत बनेगी।

गुजरात की विकास यात्रा को अविरत जारी रखने का संकल्प व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में कोरोना की दोनों लहरों का गुजरात सहित देश के अन्य राज्यों ने दृढ़तापूर्वक मुकाबला कर कठिन परिस्थितियों में विकास कार्यों की गति को सुस्त नहीं पड़ने दिया।

मुख्यमंत्री ने गुजरात को कई परियोजनाओं की भेंट देने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, गृह मंत्री श्री अमित शाह, रेल मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव का हृदय से आभार व्यक्त किया।

राज्य के मुख्य सचिव डॉ. अनिल मुकीम ने स्वागत भाषण में कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के विजन और मिशन को परिपूर्ण करते हुए यह नवविकसित रेलवे स्टेशन और दो नई ट्रेनें तथा साइंस सिटी के तीन प्रकल्प गुजरात की विकास यात्रा को गति देंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के सहयोग से गुजरात सरकार ने अनेक प्रोजेक्ट कार्यरत किए हैं, जो आने वाले समय में गुजरात की वैश्विक पहचान को बढ़ाने में मददगार साबित होंगे।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गांधीनगर-वाराणसी सुपरफास्ट ट्रेन और गांधीनगर-वरेठा मेमु ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया तथा साइंस सिटी के तीन नए प्रकल्पों का भी शुभारंभ किया। इस अवसर पर केंद्रीय रेल राज्य मंत्री श्रीमती दर्शनाबेन जरदोश, उप मुख्यमंत्री श्री नितिनभाई पटेल गुजरात भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री सी.आर. पाटिल, मंत्रिमंडल के सदस्य, सांसद, विधायक और अन्य पदाधिकारियों सहित राज्य सरकार के उच्च अधिकारी उपस्थित थे।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,027FansLike
3,424FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles