केन्द्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड ने अंतरराष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस, 2021 मनाया

केन्द्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड ने अंतरराष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस, 2021 मनाया और वर्ल्ड कस्टम्स ऑर्गेनाइजेशन सर्टिफिकेट ऑफ मेरिट पुरस्कार के लिए समारोह आयोजित किया

केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने आज अंतरराष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस, 2021 मनाया। विश्व सीमा शुल्क संगठन (डब्ल्यूसीओ) ने इस साल के लिए ‘एक टिकाऊ आपूर्ति श्रृंखला के लिए सीमा शुल्क वसूली में तेजी, नवीकरण और लचीलापन’ थीम दी है।
मुख्य कार्यक्रम वित्त मंत्रालय के नॉर्थ ब्लॉक में आयोजित और वर्चुअल माध्यम से संचालित किया गया, जिसमें सीबीआईसी के अध्यक्ष श्री एम. अजीत कुमार, बोर्ड के सदस्यों, वरिष्ठ अधिकारियों और सीबीआईसी के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों और निदेशालयों ने हिस्सा लिया।कार्यक्रम की शुरुआत केंद्रीय वित्त और कॉरपोरेट मामलों की मंत्री का संदेश पढ़ने के साथ हुई। निर्मला सीतारमण ने सराहना की कि भारतीय सीमा शुल्क के कामकाज में एक व्यापक बदलाव आया है, क्योंकि अब ईज ऑफ डूइंग बिजनेस (व्यापार करने में सरलता) और व्यापार सुविधा की तरफ ध्यान केंद्रित किया गया है। वित्त मंत्री ने आगे कहा कि एक व्यक्ति केंद्रित दृष्टिकोण अपनाए जाने से सीमा शुल्क कार्यप्रणाली के बदलाव की प्रक्रिया में और तेजी आएगी।

वित्त और कॉरपोरेट मामलों के राज्य मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर ने अपने संदेश में कहा कि जैसे हम महामारी से उभरे हैं, हमारी सीमाओं की सुरक्षा करने में सीमा शुल्क की भूमिका तो और भी महत्वपूर्ण बन गई है। वित्त सचिव डॉ. अजय भूषण पांडे ने अपने संदेश में कहा कि अंतरराष्ट्रीय आपूर्ति श्रृंखला में सीमा शुल्क एक प्रमुख भूमिका निभाता है, जो 2021 के लिए डब्ल्यूसीओ की थीम का केंद्र बिंदु है। उन्होंने आगे कहा कि भारतीय सीमा शुल्क ने हमेशा संयम के साथ आर्थिक और सामाजिक चुनौतियों का सामना किया है और हमारे देश की समर्पण के साथ सेवा की है। उन्होंने अधिकारियों को उनके अनुकरणीय योगदान के लिए डब्ल्यूसीओ सर्टिफिकेट ऑफ मेरिट से पुरस्कार मिलने पर बधाई भी दी।

डब्ल्यूसीओ सर्टिफिकेट ऑफ मेरिट पुरस्कार पाने वालों को बधाई देते हुए सीबीआईसी अध्यक्ष ने व्यापार सुविधा बढ़ाने और व्यापार करने में सरलता (ईज ऑफ डूइंग बिजनेस) सुनिश्चित करने के लिए सीमा शुल्क द्वारा किए गए प्रयासों का उल्लेख किया। उन्होंने इस महामारी से ग्रस्त वर्ष में 24X7 घंटे काम करते हुए वस्तुओं, खास तौर पर कोविड राहत सामग्री की निर्बाध आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए सीमा शुल्क अधिकारियों के प्रयासों की सराहना की। लॉकडाउन के दौरान, एक आवश्यक सेवा होने के नाते सीमा शुल्क ने निर्बाध आपूर्ति और अर्थव्यवस्था की टिकाऊ बहाली सुनिश्चित करने की चुनौतियों को स्वीकार किया। आत्मनिर्भर भारत का निर्माण सुनिश्चित करने के लिए व्यापार करने में सरलता और व्यापार सुविधा प्रेरक शक्ति थी।

सीमा शुल्क के सदस्य संदीप भटनागर ने कहा कि बीते साल सीबीआईसी ने अगली पीढ़ी के ‘तुरंत कस्टम्स’ कार्यक्रम के तहत कई कदम उठाए हैं, जो सीमा शुल्क संबंधी मामलों को निपटाने में फेसलेस, कॉन्टैक्टलेस और पेपरलेस प्रक्रियाओं पर ध्यान केंद्रित करता है। जोनल सदस्य सुश्री संगीता शर्मा ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि ऑटोमेशन और नई तकनीक के साथ भारतीय सीमा शुल्क ने काम करने के नए तरीके को बहुत अच्छी तरह से अपनाया है और किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए सुसज्जित है।

नॉर्थ ब्लॉक के कार्यक्रम में दिल्ली में मौजूद रहे आठ अधिकारियों को डब्ल्यूसीओ सर्टिफिकेट ऑफ मेरिट दिया गया और बाकी के अधिकारियों को उनके विभागाध्यक्षों ने उनकी अपनी-अपनी जगहों पर पुरस्कार दिए, जिसे वर्चुअल माध्यम से सभी प्रतिभागियों ने देखा।

सुश्री रंजना झा, प्रधान मुख्य आयुक्त सीमा शुल्क, दिल्ली जोन ने धन्यवाद प्रस्ताव पेश किया।

निम्नलिखित अधिकारियों ने वर्ष 2021 के लिए डब्ल्यूसीओ सर्टिफिकेट ऑफ मेरिट दिया गया।

1. श्री गौरव सिंह, उप सचिव, टैक्स रिसर्च यूनिट-I, सीबीआईसी
2. श्री आर. गोपालसामी, अतिरिक्त आयुक्त, सीमा शुल्क, चेन्नई जोन
3. श्री सामया मुरली, अतिरिक्त आयुक्त, सीमा शुल्क, चेन्नई जोन
4. श्रीमती प्रियदर्शिका श्रीवास्तव, संयुक्त आयुक्त, सीमा शुल्क, मुंबई जोन-I
5. श्री विनित कुमार, उप निदेशक, एनएसीआईएन, फरीदाबाद
6. श्री आदित्य सिंह यादव, उपायुक्त, सीमा शुल्क, दिल्ली जोन।
7. श्री मनुदेव जैन, उपायुक्त, अंतरराष्ट्रीय सीमा शुल्क निदेशालय
8. श्री निखिल गोयल, ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी, टैक्स रिसर्च यूनिट-I, सीबीआईसी
9. डॉ. विक्रम सिंह, उपायुक्त, एनसीटीएफ
10. श्री एस. ए. अंसारी, अवर सचिव, एडी-II, सीबीआईसी
11. डॉ. महेश कुमार, रसायन परीक्षक, ग्रेड- l, सीआरसीएल, वडोदरा
12. श्री नीरज बाबू जैन, सहायक निदेशक, डीजीएचआरडी, नई दिल्ली
13. श्री राजेश कौशल, अधीक्षक, सीमा शुल्क, लुधियाना
14. श्री जितेन्द्र मेंदोलिया, अधीक्षक, डब्ल्यूसीओ सेल, नई दिल्ली
15. श्री गगनदीप सिंह, अधीक्षक, सिंगल विंडो, नई दिल्ली
16. श्री राजेंद्र प्रसाद सामरिया, अप्रेजर, सीमा शुल्क (निवारक), जोधपुर
17. श्री आशीष मलिक, इंस्पेक्टर, डीजीएचआरडी, नई दिल्ली

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,027FansLike
3,700FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles